2019 का लोकसभा चुनाव यह निर्धारित करेगा की आगे कभी हिंदू सत्ता रहेगी या नहीं


408
242 shares, 408 points

एक पक्ष है जो ख़ाली नोटा वालों को ज़िम्मेदार बनाने पर तुला है तो वहीं नोटा वाले उस पक्ष को जो उन्हें गालियाँ देता है

मैं दोनो से सहमत नहीं हूँ विरोध मैं भी करता हूँ फ़िलहाल नही कर रहा हूँ न ही 2019 तक करने का कोई इरादा है फ़िलहाल बात नाराज़गी पर करते हैं

जहाँ मोदी जी के लिए गाली देने वाला हर सही ग़लत बात को जायज़ ठहरा कर एक पक्ष को उकसाता गया कांग्रेसी और मुसलमान साबित करता गया या कट्टर खट्टर कहकर चिढ़ाता रहा वहीं दूसरे पक्ष ने भी अंडोले नमोले इत्यादि कहा

कुछ लोगों ने नोटा का प्रयोग किया जो की उनका लोकतांत्रिक अधिकार भी है समस्या यह है की जब तक नोटा right to reject नहीं है तब तक वह सिर्फ़ एक छलावा है यह लोगों ने समझने में चुक कर दी

परिणाम सामने है हम तीन राज्य जहाँ जीत सकते थे हार के बैठे हैं और कोई भी आत्मचिंतन के लिए तैयार नहीं है

हालाँकि जिस दिन हारे थे वह दिन सबको एक साथ करने के लिए काफ़ी था सभी दुखी थे लेकिन कुछ नोटाधारियों ने जश्न मनाना सुरु किया और बाक़ी जो कि अंडे कहे जाते हैं उन लोगों ने गाली देना

परिणाम यह है की हम पहले से अधिक असंगठित हैं और आपस में लड़ मरने को तैयार हैं जबकि इस समय २०१९ भी साफ़ हाँथों से जाता हुआ दिख रहा है

वजह मात्र इतनी है की दोनो पक्ष अपने अहंकार को पोषित कर रहे हैं कोई झुकने को तैयार नहीं अगर कोई एक पक्ष पुरी तरह सप्ताह भर शांत रह जाए तो आज भी हमारे सामने कोई नहीं हम सबसे बदी social मीडिया फ़ौज हैं

लेकिन अब वह लक्ष्य असम्भव प्रतीत हो रहा है वजह है अहंकार और ख़ुद को अधिक हिंदू या भाजपाई साबित करना हर वोटर ऐसा नहीं होता की वो गाली खाकर भी वोट करे हमरा क्या है हम न तुम्हारी वजह से पार्टी के कार्यकर्ता हैं न तुम्हारी गाली से बिदकने वाले

2019 का लोकसभा चुनाव यह निर्धारित करेगा की आगे कभी हिंदू सत्ता रहेगी या नहीं माना की नरेंद्र मोदी हमारी अपेक्षाओ पर खरे नहीं उतरे माना कि वह सिर्फ़ ऊपर ऊपर से छू कर निकल गए काफ़ी मुद्दों पर

यह भी मान लेते हैं की जाने अनजाने में उन्होंने हमरा दिल भी दुखाया होगा लेकिन क्या यह मान सकते हैं की वो हिंदू विरोधी हैं क्या हम यह मान पाएँगे की वह डकैत हैं क्या वो स्कैम करते हैं ??? जवाब है नहीं

जो काम अधूरे हैं वह हम इनसे ही करवा सकते हैं एक बार विजय पताका फहराने दीजिए फिर बैठकर पहले दिन से अपने मुद्दों के लिए लड़िए अब सवाल करने समय नहीं बचा

क्या आप कांग्रेस से इन मुद्दों पर सवाल भी कर पाएँगे ?? क्या वो हमारी बात सुनेंगे भी ?? Soft हिंदुत्व कुछ नहीं होता यह मात्र छलावा है ख़ुद को छलने से बचाइए

एक बार दोनो पक्ष से दुखी मन से निवेदन करता हूँ अब भी संगठित होकर एक बार लड़िए वचन है काम करवा लेंगे आराम से हुआ तो ठीक वरना ज़बर्दस्ती करवा लेंगे लेकिन इस ज़बर्दस्ती के लिए बी॰जे॰पी॰ चाहिए नरेंद्र मोदी चाहिए

अपने अहंकार से बाहर निकलिए ख़ुद की ग़लती स्वीकार कीजिए


Like it? Share with your friends!

408
242 shares, 408 points

What's Your Reaction?

hate hate
50
hate
confused confused
16
confused
fail fail
75
fail
fun fun
67
fun
geeky geeky
58
geeky
love love
33
love
lol lol
42
lol
omg omg
16
omg
win win
76
win
Umair Farooqui
The Fearless Reporter Of India,

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Choose A Format
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
Video
Youtube, Vimeo or Vine Embeds
Meme
Upload your own images to make custom memes
List
The Classic Internet Listicles